12 March 2019 current affairs /daily current affairs in hindi / Gk for next exam /current affairs

12 March 2019 current affairs /daily current affairs in hindi / Gk for next exam /current affairs


📣 Please Like 👍

100 thoughts on “12 March 2019 current affairs /daily current affairs in hindi / Gk for next exam /current affairs

  1. 📚📣 Pdf डाउनलोड करने से पहले एक बार विडियो जरूर देखें ताकि आपको अन्य जानकारी भी मिल सके 🙏🙏
    https://drive.google.com/file/d/1UKKbB3geIJCwiz0N7poroYsQmqusQHub/view?usp=drivesdk

  2. दूध का घनत्व लैक्टोमीटर से मापा जाता है

  3. सर इसी स्पीड मैं थोड़ा धिरे पढ़या करो,,,कल की क्लास फ़ास्ट हो गई थी,, बाकी सब ठीक है sir थैंक्यू

  4. sir mai apke video daily dekhta hun ..bahut achha lagta hai…thank
    you …sir montly current affair ka bhi video dal dijiye ….

  5. Purity of milk -Lactometer
    Discover by- Liverpool
    इस यंत्र का आविष्कार लीवरपूल के डिकास द्वारा किया गया। यह शीशे का बना एक छोटा से यंत्र होता है। इसके जरिए दूध के घनत्व के आधार पर दूध की शुद्धता और अशुद्धता का निर्धारण किया जाता है। इस यंत्र के जरिए दूध में पानी मिलाया गया है या नहीं, इसका पता आसानी से लगाया जा सकता है। दूध की शुद्धता को मापने के लिए दूध का सैंपल लिया जाता है। इसके बाद लैक्टोमीटर को दूध में डुबोया जाता है तथा यंत्र पर रीडिंग ली जाती है। सामान्यतः शुद्ध दूध की रीडिंग 32 होती है।  दूध में पानी की मात्रा 87 प्रतिशत होती है।

  6. लैक्टोमीटर:-दूध के घनत्व को मापने के लिए इस यन्त्र का उपयोग किया जाता है
    लैक्टोमीटर का अविष्कार डिवास नामक बैज्ञानिक ने किया जिसके अन्तर्गत दूध की शुद्धता और अशुद्धता का पता लगाया जाता है
    दूध में पानी मिला है या नही इसकी जानकारी हमें इस यन्त्र से मिल जाती है

    लैक्टोमीटर में दूध के "घनत्व" के आधार पर रीडिंग की जाती है

    कुछ अन्य वैज्ञानिक यंत्र —
    1 ,बैरोमीटर-वायुदाब की माप
    2,रिएक्टर पैमाना-भूकंप की तीब्रता
    3,स्फीग्नोमैनोमेटेर-रक्त दाव की माप
    4,सिस्मोग्राफ-भूकंप की माप

  7. दूध का घनत्व मापने के लिए लाक्टोमीटर का उपयोग करते हैं। यह शीशे का बना एक छोटा सा यंत्र होता है। इसके जरिए दूध के घनत्व के आधार पर दूध की शुद्धता और अशुद्धता का निर्धारण किया जाता है। इस यंत्र के जरिए दूध में पानी मिलाया गया है या नहीं, इसका पता आसानी से लगाया जा सकता है। दूध की शुद्धता को मापने के लिए दूध का सैंपल लिया जाता है। इसके बाद लैक्टोमीटर को दूध में डुबोया जाता है तथा यंत्र पर रीडिंग ली जाती है। सामान्यतः शुद्ध दूध की रीडिंग 32 होती है। दूध में पानी की मात्रा 87 प्रतिशत होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *